Taming the Djinn of Corruption

A spectacular win in 3 North-Eastern states specially Tripura, stunning loss of 2 seats in UP Lok Sabha by-elections, TDP’s shocking exit from NDA, perplexing ‘No confidence’ motion in Lok Sabha and well-scripted win to snatch an extra seat in Rajya Sabha from UP. Things can’t be more topsy-turvy for Modi Govt which would complete its normal tenure early next year. Modi stormed into power with a historic win and absolute majority in May, 2014. During election campaigns he placed emphasis, among other things, on 2 issues agitating the minds…

Read More

स्वर्णाभूषणों के नये मानक : Menē

पूरब के 3 billion लोगों की दुनिया में आभूषण के मायने आज भी वही है जो 6000 साल पहले था : आभूषण शुद्ध 24 कैरेट सोना हो। आभूषण का दाम निर्धारित हो उसके वज़न और उस दिन के सोने के भाव को गुणा करके। आभूषण को बनाने का तरीक़ा पारदर्शी और कम से कम फ़ीस राशि हो। आभूषण बेचा या बदला जा सके उतनी ही आसानी से,जितनी आसानी से ख़रीदते हैं। पश्चिमी दुनिया में आभूषण ख़रीदते वक़्त हम पाते हैं : ज्वैलरी में जब ‘फ़ाइन’ का तमग़ा लग जाता है,तब…

Read More

सवाल $400 बिलियन का

इतिहास में पहली बार भारत का विदेशी मुद्रा भंडार $400 billion पार गया है। विगत चार सालों में मुद्रा भंडार में क़रीब 50% की बढ़त दर्शाता है कि भारत की भुगतान देय आधारभूत शक्ति बेहद स्थिर हो गई है। इस स्थिरता को 2014 से मज़बूती मिल रही है प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (FDI), FII और NRI Investments के भरपूर निवेश से। मुद्रा भंडार में आई इस उछाल से दो प्रश्न उभरते हैं। पहला, क्या भारत को ज़रूरत है इतनी तादाद में विदेशी मुद्रा भंडार की,जो US treasury bonds के रूप में…

Read More

स्वर्ण-आभूषणों का मानक : पारंपरिक व्यवस्था से आजतक का प्रारूप

पिछले बरस Josh Crumb और मैंने तीन सप्ताह चीन और भारत में बिताया। वहाँ के स्वर्ण-उद्योग के प्रमुख परिवारों से मिले न्यौते को पाकर मेहमान बन हम जा पहुँचे ।भारत में हमें न्यौता देने वाले परिवार का ‘गोल्ड-बुलियन ट्रेडिंग’ का व्यवसाय है।चीन में हमें न्यौतने वाले परिवार ‘Chow Tai Fook’ के मालिक का देश का सबसे बड़ा स्वर्ण व्यवसाय है। इस दौरे में हमने सबसे ज़्यादा समय लोकल स्वर्ण-आभूषण मार्केट पर अध्ययन में बिताया। हम फ़ैक्टरी, बाज़ार, डीलर्स, निर्माता और स्वर्ण-आभूषणों को वित्तीय सहायता देने वाले फर्मस में भी गये।तीसरे दिन से ही…

Read More

Modi Schemes That Changed Lives -1

Since independence, many governments have come and gone. All governments without exception promised redemption of the poor. But on the ground not much has changed for the poor because plethora of schemes launched in the name of poor never reached them adequately. Lack of awareness, presence of middlemen, corruption- any one of these can be blamed for the failures of the government. Schemes were announced, given a little push and forgotten all about it, because government and bureaucracy didn’t care enough. The 2014 Lok Sabha elections changed that. On 9th…

Read More

Demonetisation: A Bankers Perspective

If you have ever been to Cash counter in a bank (unless you have been living under a rock), you must have seen that person sitting behind that wall of glass, counting cash, wishing it was all theirs. Well, that person is me. I am a banker and Demonetisation is what I want to speak about. On 8th November I heard my mom call out, “BETA DEKH MODIJI KYA KEH RAHE HAIIIINNNNN..!!” (Yes, my mom can CAPS LOCK her voice with ease).I came down, saw PM on the TV, heard what…

Read More